याद की रेज़गारी के बीच


एक बेपरवाही का पर्दा है। मुसलसल हवा की आमद के साथ हिलता है और धोखा होता है कि कोई आया। दीवार पर बीते दिन की महीन परछाई है। उड़ते हुये रंगों की याद का कोलाज है। फूल सा फाहा है स्मृति का। हालांकि नहीं लौट कर आता कुछ भी फिर भी दुआ भी कोई चीज़ है। जहां रहे खुश रहे, आक के डोडे से बिछुड़ा हुआ सफ़ेद पंख लगा उम्मीद सरीखा बीज सा पल। उदासियों की विदाई की कुछ बातें हैं, बेवजह बातें।

कि जिंदगी के बस्ते में रखी याद की रेज़गारी के बीच
एक चेहरा खड़ा है,
रुत बदलने की उम्मीद लिए खड़े किसी पेड़ की तरह।
* * *

याद करना चाहिए उस दुख को
जिसके साथ पहली बार आया था मुक्ति का खयाल।

मैं मगर दिल में रखता हूँ, गिरफ़्त होने की घड़ी को।
* * *

तुम यहाँ सिर्फ जी नहीं रहे हो
तुम हो यहाँ पर किसी विहंगम दृश्य को देखने के लिए नियुक्त पहरेदार
तुम में भरी है अद्भुत शराब।

तुम छूकर आए थे, एक लिफ्ट के आखिरी क्षणों में महबूबा के बाल।
* * *

और मेरी पसंद के बारे में पूछते ही
मैं खो गया रंगों के ऐंद्रजाल में
मगर उचक कर दिया मैंने जवाब कि सवाल ही गलत है।

इसलिए कि हर कोई जानता है
मेरा महबूब रख दे जिस रंग पर नज़र, मुझे वही पसंद है।
* * *

हमें
इससे कोई मतलब नहीं होना चाहिए
कि लोग मिलते हैं और खो जाते हैं।
* * *

प्रेम, एक अर्धचेतना का बिछौना है
भयावह रेतीले वर्तुलों में
चमकीली धातुओं के बारीक टुकड़ों की चौंध से भरा।

ये बातें किसी की स्मृति भर है कि
उसकी एक नज़र, कई ख्वाब, बुझ गया मायावी धोखा।
* * *

तुम्हारे बारे में सच क्या है?

आखिरी बार पूछा वर्दी पहने हुये आदमी ने
कि दुआ और उम्मीद के सिवा भी कुछ कहो।
* * *

उसने जकड़ लिया बाहुपाश में
चूमा बेतरह, उधेड़ दी बखिया उदासियों की
फिर मुस्कुरा कर बोला।

मैंने सुना है, अवसर एक ही बार आता है।
* * *

अचानक से एक उम्मीद विदा हो गयी
सूखी पत्तियों जैसी किसी आवाज़ में।

मैंने कहा
सुनो,
तुम सामने बैठे रहो तो हज़ार और उम्मीदें है मेरे पास।
* * *

कोई वजह नहीं उम्मीद के लिए कि 
उम्मीद को कोई वजह क्यों चाहिए होगी।
* * *

यात्रा के आख़िरी पड़ाव पर
हमें बिछड़ना चाहिए भय के साथ
भय एक दूजे को खो देने का।

मगर चीज़ें बनी है किसी मक़सद के लिए
मेरा मक़सद तूँ है।
* * *

[पेंटिंग की इमेज एक दोस्त के घर की दीवार से]

Popular posts from this blog

पतनशील पत्नियों के नोट्स

तुम्हारे सिवा कोई अपना नहीं है

एक लड़की की कहानी