Posts

Showing posts from October, 2018

उसके होने का भ्रम रहे

हर कोने तक रोशनी

अगर मैं यहां नहीं हूँ तो

मगर मुझे मेरा लगता नहीं

वो भी जाने कहाँ?

तुम अभी थोड़ी देर पहले यहीं थे

चिड़िया - इतना काफी है।

कोई यायावर अचानक पास आ बैठा

चूरमें रा गटका

ख़ैर हो।

उपेक्षित और प्रताड़ित - दुख