Skip to main content

किसी तरह तो जमे बज़्म

ख़ुशी और उदासी के लिए कितनी छोटी - छोटी सी बातें पर्याप्त होती है. कल शाम को डॉ. विजय माल्या मुझे बहुत उदास दीखे, चार घंटे बाद वही उदासी ख़ुशी में बदल गयी. वे आईपीएल में खेल रही अपनी टीम रोयल चेलेंजर बेंगलोर के लिए चीयर अप करने आये थे.

पहली सीजन के आगाज़ में ही विकेटकीपर बल्लेबाज मेक्यूलम ने सब गुड गोबर कर दिया था. रोयल चेलेंजर के गेंदबाजों की बेरहमी से धुलाई की. उस किवी खिलाडी की आतिशी पारी को देखते हुए कोलकाता नाईट राईडर टीम के फ्रेंचाईजी, सिनेमा के हीरो पद्मश्री शाहरुख खान साहब अपने बांके मुंह की टेढ़ी मुस्कान को बिखरते हुए नाचते रहे.

रोयल चैलेंजर के कैब में किंगफिशर एयरलाईन की हवाई सुंदरियाँ, फैशन शो में छाई रहने वाली, सूखी हुई काले पीले रंग की देह वाली केट्वाक गर्ल्स, अपने पांवों को विशेष ज्यामिति में सलीके से टेढ़े किये खड़ी हुई थी. उनके बीच में दक्षिणी केलिफोर्निया विश्विद्यालय से व्यवसाय क्षेत्र में डाक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित विजय माल्या अपने मातहतों को कोस रहे थे कि उनको अपनी पसंद के खिलाडी नहीं चुनने दिए गए और अब ये पजामा छाप बल्लेबाज उनके सम्मान की ऐसी तेसी कर रहे हैं. नीचे नई नवेली, मस्त बदन वाली चीयर गर्ल्स और फटाफट क्रिकेट के कोकटेल में दर्शक पगलाए जा रहे थे.

विजय माल्या साहब के इर्द गिर्द, मेक्डोवेल्स छाप का ताज़ा माल लिए जो सुंदरियाँ खड़ी थी. उनके गले की हड्डियाँ बाहर निकल चुकी थी और बदन पर कपड़े इस तरह लटके थे जैसे कपबोर्ड में हेंगर पर सिकुड़ी हुई नाईटी लटकी रहती है. वे भी बहुत हताश हुई थी. आधे खेल के बाद बीयर केन्स को भारी मन से विदा देनी पड़ी और एक सफलतम उद्योगपति छोटी सी हार से बेहद निराश होकर, अपनी टीम के खिलाड़ियों से मिले बिना चला गया.

अधिकतर लोग विजय माल्या को शराब व्यवसायी और टीपू सुल्तान की तलवार खरीदने वाले के तौर पर ही जानते हैं लेकिन एक वित्तीय वर्ष में संगठित उद्योग अवधारणा से पैंसठ फीसद टर्न ओवर बढाने का हुनर भी इन्ही के पास है. रसायन, जीवन विज्ञान, टेक्नोलोजी, उड्डयन और चिकित्सा सहित दर्जन भर व्यवसायों का सफलता पूर्वक संचालन भी करते है. हमारे देश में खेल और खिलाड़ियों को सुविधाओं के नाम पर रोना रोये जाने की एक तवील परंपरा है मगर करता कोई भी कुछ नहीं है. जबकि इसी हालत में माल्या साहब दो अभिजात्य और एक आम आदमी के खेल में सार्थक दखल रखते हैं.

वे ई लीग के क्लब ईस्ट बंगाल एफ सी के, साथ ही फ़ोर्स इण्डिया नामक फ़ॉर्मूला वन दौड़ में भाग लेने वाली टीम के भी मालिक हैं. अपनी टीमों को वे धन की कमी कभी नहीं आने देते हैं. पिछले साल उनके ड्राईवर जियानकार्लो फेसिचेल्ला ने उनकी फ़ोर्स इण्डिया टीम को बेल्जियन ग्रां प्री में दूसरा स्थान हासिल कर एक अंक दिलवा दिया था. किसी भी मोटर गाड़ी दौड़ाने वाली टीम के लिए एक अंक हासिल करना गर्व की बात होती है. साल 2009 में माल्या साहब को मोटर गाड़ी दौड़ के अलावा आई पी एल में भी सुख नसीब हुआ टीम ने फाईनल तक का सफ़र तय किया. पजामा छाप क्रिकेटरों के विशेषण से सम्मानित राहुल द्रविड़ साहब और उनके साथियों ने पजामे उतार फैंके और खुद को आधुनिक फटाफट क्रिकेट के योग्य खिलाड़ी साबित कर लिया.

मैं सोच रहा था कि आखिर माल्या साहब उदास क्यों बैठे हैं ? हालाँकि उनकी टीम एक मैच हार चुकी थी और कल दूसरा मैच था. इतना कामयाब व्यक्ति शायद इसी लिए उदास होता होगा कि उसके भीतर एक बड़े उद्योगपति के अतिरिक्त एक मासूम बच्चा अभी तक जिंदा है जो अब भी हार के अहसास से घबरा जाता है. उसमे एक तरुण का दिल भी है जो दुबली पतली देह वाली आकर्षक कही जाने वाली लड़कियों के अर्धनग्न कलेंडर छाप कर खुश होता है.

मैं पिछले तीन साल से यानि जब से ये खेल शुरू हुआ है, आरसीबी का फैन हूँ. उसकी ओफिसियल वेब साईट पर एक पंजीकृत समर्थक हूँ इसलिए नहीं कि मुझे शराब पसंद है और मैं रोज शराब पीने को दुनिया के सबसे अधिक सुखभरे कामों में एक काम मनाता हूँ, इसलिए भी नहीं कि माल्या साहब बेहतरीन शराब बनाने के करीब पहुंचने वाले हैं. इसलिए भी नहीं कि किंगफिशर की एयर होस्टेज अधिक सुन्दर और व्यवहारकुशल हैं. मगर इसलिए कि ईस्ट बंगाल सहित जिस भी खेल पर माल्या साहब धन व्यय करते हैं, वह मुझे उनका समर्थक बनाता है. फ़ुटबाल के अतिरिक्त भले ही दोनों खेल आम आदमी से बहुत दूर हैं फिर भी माल्या साहब का खेल के प्रति मन तो है. संभव है कभी वे कुश्ती और दौड़ भाग जैसी प्रतियोगिताओं के प्रतिभागियों के लिए धन उपलब्ध करा दें.

दुनिया के अरबपतियों में शुमार भारतीय, खेल के लिए बहुत उदासीन है. वे सिर्फ सुविधा संपन्न खिलाड़ियों के ओलम्पिक में पदक जीतने पर ही अपने खेल प्रेम से कोंपलें फूटते हुए देख पाते हैं मगर सुविधा उपलब्ध करने के नाम पर शून्य ही हैं.

कल रोबिन उथप्पा ने आतिशी पारी खेली और कालिस - कालिस का शोर मेरे भीतर उठता रहा. एक और शोर जो मेरे मन में उठा करता है, वह इन दिनों उदासीन है. मौसम में तेज गरमी आ पड़ी है फिर भी पिछली चार रातों से मेरे आईस क्यूब्स उदास से फ्रीजर में बंद है. चलते हुए फैज़ साहब का एक माकूल शेर...

किसी तरह तो जमे बज़्म मैकदे वालों
नहीं जो बादा-ओ-सागर तो हा-ओ-हू ही सही

Popular posts from this blog

मैं कितना नादान था।

आवाज़ का कोई धुंधला टुकड़ा भीतर तक आता है. उस बुझी हुई आवाज़ वाले टुकड़े से अक्सर रोना सुनाई देने लगता है. मैं वाशरूम में एक जगह ठहर जाता हूँ. रोना धीरे सुनाई पड़ता है मगर मन तेज़ी से बुझने लगता है. शावर से पानी गिरता रहता है. वाशरूम की दीवारों को देखने लगता हूँ. वे सुन्दर हैं. इनकी टाइल्स नयी और चमकदार है. दीवार पर लगा पंखा भी अच्छा है. छत पर ज़रूर कहीं कहीं पानी की बूंदें सूख गयी हैं. 
पहले माले पर कुछ नयी आवाजें आने लगती हैं. पहले की उदास आवाज़ चुप हो जाती है. नयी आवाज़ का शोर चुभने लगता है. आँखें बंद करके लम्बी साँस लेना चाहता हूँ. भीगे सर को पंखे के सामने कर देता हूँ. इंतज़ार. और इंतज़ार मगर बदन ठंड से नहीं भर पाता. कुछ देर बाद पाता हूँ कि आवाज़ें बंद हो गयी हैं. भीगे बदन बाहर आता हूँ. 
दुनिया वहीँ है.

उदासी की आवाज़ों का झुण्ड धीरे-धीरे क्षितिज से इस पार बढ़ता जाता है. जैसे शाम की स्याही बढती है. जैसे मुंडेरों से उतर कर नींव के उखड़े पत्थरों तक चुप्पी आ बैठती है. नीली रौशनी वाला तारा टूटता है. जैसे किसी ने एस ओ एस भेजा है कि किसी ने संकेत किया है बस यहीं दाग दो.  * * *
मेरी आँखों में
मेरे हो…

नष्ट होती चीज़ों के प्रति

मरम्मतें मुकम्मल नहीं होती
कि जो एक बार टूट जाता है, बार-बार टूटता रहता है।

मैं भटकता रहा। देहगंध के लिए नहीं वरन अपनी तन्हाई की तलाश में। इस तलाश में मैंने कीकर पाए। कीकर के कांटों से बहुत गहरा प्रेम किया। उनकी चुभन आवरण में छुपने का अवसर नहीं देती। आप दूर से ही दिख जाते हैं, बिंधे हुए। दर्द से भरे। लड़खड़ाते चलते। मुझे ये अच्छा लगता है कि आदमी जैसा है, औरत जैसी है। वैसी रहे और दिखे भी।
मुझे उन लोगों से प्रेम न हुआ, जो किसी मजबूरी में रिश्ता ढोते गए। हालांकि जीवन में अगर आप अकेले होते तो भी कष्ट तो ऐसे ही रहते। इसलिए मैंने ख़ुद से कहा- "जीना मगर एज पर जीना। किसी के लिए बचना मत। कि जीवन को जब तक तुम किसी धार पर रखोगे, वह मरने से बचने की जुगत में लगा रहेगा। जिस दिन उसे बचाना चाहोगे, वह तुम्हारी आत्मा को चीरता हुआ नष्ट होने लगेगा।"
यही हाल रिश्तों का है। लोग बचाने की पवित्र जुगत में ख़ुद को नष्ट करते जाते हैं। मुझे अब तक केवल ये समझ आया है कि नष्ट होती चीज़ों के प्रति उदासीन रहो। और कोई हल नहीं है।

भूल जाओ

कोई इतना पास से गुज़र जाए और देख न सकें उसकी सूरत तो दिल उदास हो जाता है। धूप के तलबगार छोटे छोटे दिन आने को हैं ताकि याद की लंबी रातों में की जा सके अतीत की लंबी जुगाली। और बहुत सारी बेवजह की बातें। 
भूल जाओ
पगडंडी के पत्थर से लगी चोट थी
वो बबूल का एक नुकीला कांटा था।

ये भी भूल जाओ कि तुमने ये बात पढ़ी।
* * *

ये रंग
तुम्हारी अंगुलियों की
खुशबू बारे में कुछ नहीं कहता। 
ज़रा पास आओ।  * * *

इसलिए मेरी जिज्ञासा का रंग सलेटी है
कि देखूँ   तुम्हें छूकर ढल जाए जाने किस रंग में।  * * *

विवेक से भरे दुख
और ईश्वर के बीच की दूरी बहुत कम होती है

इसलिए तुम कहीं मत जाओ।  * * *
इस पर भी अगर आप
दो कदम और चल सकें तो  मिट सकता है भरम  कि ईश्वर कोई चीज़ नहीं होती, दुख भी कुछ नहीं होता।
* * *

मेरी नास्तिकता पर  तुम्हें दया आ सकती है
हो सकता है कि तुम मेरा सिर भी फोड़ दो।

मैं अगर तुमसे प्यार करता हूँ, तो इसके सिवा कुछ नहीं कर सकता।
* * *
कोई समझ नहीं सकता किसी का दुख
आस पास के लोग सिर्फ हिला सकते हैं गरदन
दूर बैठे हुये लोग भेज सकते हैं अफसोस से भर संदेशे
प्रेमी रो सकता है, उस दुख से भी…