Skip to main content

विलायती बबूल

मुद्दतों से ये आलम न तवक्को न उम्मीद. शाम के होने से पहले मैं सैनिक कॉलोनी से होता हुआ सड़क पर आता. वहां से कभी पैदल या रिक्शे में बैठ कर शहर के बीच सफ़ेद घंटाघर तक पहुँचता मगर फिर ख़याल आता कि कहीं नहीं पहुंचा हूँ. वही पत्थर से बनी हुई सड़कें, फुटपाथ तक पसरी हुई बरतनों की दुकानें, चाय पीने वालों के लिए बिछी हुई बेंचें, दर्जियों की मशीनों से आती परिचित सी आवाज़ें और मेरे साथ वही मेरी तन्हाई. एक तो वो शहर नया था और फिर मेरी निगाह में कोई दूसरी मंज़िल न थी. शहर से लौट कर आता तो रात भर घर से बाहर बैठे रहने को जी चाहता रहता था.

शाम के ट्रांसमिशन में रेडियो पर गाने बजा रहा होता तो गुजर हो जाती लेकिन खाली शामें बहुत सताती थी. ढाबे से पैक होकर आया खाना कमरे में अपनी खुशबू बिखेरता रहता और मैं अपने किराये के घर के कोर्ट-यार्ड में पसरी हुई रेत पर नंगे पांवों को रखे हुए कुछ सोचता जाता. रेत की ठंडक पांवों को सुकून देती थी. बेख़याल सामने की दीवार को देखता और विस्की पीता. उस समय मेरे पास में ऑफिस से लाया हुआ एक रजिस्टर रहता. जिसमें कुछ कविताओं सा लिखता जाता.

विलायती बबूल : चार कविताएं

[1]
जालोरी बारी में खड़े
घने नीम पर रोज कूकती है कोयल
फिर भी नीले रंग के घरों की
छोटी खिड़कियाँ अक्सर बंद रहती है.

चौराहे के पार कड़ी घूप में
शाही समोसा खाते हुए आता है ख़याल
कि काश यहाँ एक विलायती बबूल हुआ होता
या खुली होती कोई खिड़की
कि ज़िन्दगी में थोड़ी सी छाँव जरुरी है.

[2]
साफ़ मैदानों में खड़े लोग कहते हैं
देखो अब दीखता है ना सुंदर !

मगर विलायती बबूल फिर से उग आते हैं
दीवारों के बीच, गली के नुक्कड़ पर
रसोईघर के पीछे या आँगन की कोर पर.

गोया विलायती बबूल प्रेम की अमर बेल है.
(अक्टोबर 22, 1993 शुक्रवार)

[3]
विलायती बबूल से नहीं लिपटती
कोई फूलों वाली बेल
इसके छोटे-छोटे पत्तों में छुप कर
मुश्किल है कोयल के लिए गीत गाना
इसकी सूखी शाखों के बीच नहीं है घोंसला.

कभी एक सफ़ेद पंखों वाली खूबसूरत तितली
इसके पास से गुजरा करती है
जैसे डाकिया आता है खानाबदोश लुहारों की गली में.


[4]
प्रेम
पहाड़ से लुढका हुआ पत्थर है
या सूखी नदी के बीच का
हाथ भर गहरा भीगा हुआ गड्ढा है
या तनहा दोपहर की नितांत सूनी चौंध है

नहीं...
प्रेम वस्तुतः विलायती बबूल है, जिसकी जड़ नहीं जाती.

(अक्टोबर 27, 1993 बुधवार)


Popular posts from this blog

मैं कितना नादान था।

आवाज़ का कोई धुंधला टुकड़ा भीतर तक आता है. उस बुझी हुई आवाज़ वाले टुकड़े से अक्सर रोना सुनाई देने लगता है. मैं वाशरूम में एक जगह ठहर जाता हूँ. रोना धीरे सुनाई पड़ता है मगर मन तेज़ी से बुझने लगता है. शावर से पानी गिरता रहता है. वाशरूम की दीवारों को देखने लगता हूँ. वे सुन्दर हैं. इनकी टाइल्स नयी और चमकदार है. दीवार पर लगा पंखा भी अच्छा है. छत पर ज़रूर कहीं कहीं पानी की बूंदें सूख गयी हैं. 
पहले माले पर कुछ नयी आवाजें आने लगती हैं. पहले की उदास आवाज़ चुप हो जाती है. नयी आवाज़ का शोर चुभने लगता है. आँखें बंद करके लम्बी साँस लेना चाहता हूँ. भीगे सर को पंखे के सामने कर देता हूँ. इंतज़ार. और इंतज़ार मगर बदन ठंड से नहीं भर पाता. कुछ देर बाद पाता हूँ कि आवाज़ें बंद हो गयी हैं. भीगे बदन बाहर आता हूँ. 
दुनिया वहीँ है.

उदासी की आवाज़ों का झुण्ड धीरे-धीरे क्षितिज से इस पार बढ़ता जाता है. जैसे शाम की स्याही बढती है. जैसे मुंडेरों से उतर कर नींव के उखड़े पत्थरों तक चुप्पी आ बैठती है. नीली रौशनी वाला तारा टूटता है. जैसे किसी ने एस ओ एस भेजा है कि किसी ने संकेत किया है बस यहीं दाग दो.  * * *
मेरी आँखों में
मेरे हो…

नष्ट होती चीज़ों के प्रति

मरम्मतें मुकम्मल नहीं होती
कि जो एक बार टूट जाता है, बार-बार टूटता रहता है।

मैं भटकता रहा। देहगंध के लिए नहीं वरन अपनी तन्हाई की तलाश में। इस तलाश में मैंने कीकर पाए। कीकर के कांटों से बहुत गहरा प्रेम किया। उनकी चुभन आवरण में छुपने का अवसर नहीं देती। आप दूर से ही दिख जाते हैं, बिंधे हुए। दर्द से भरे। लड़खड़ाते चलते। मुझे ये अच्छा लगता है कि आदमी जैसा है, औरत जैसी है। वैसी रहे और दिखे भी।
मुझे उन लोगों से प्रेम न हुआ, जो किसी मजबूरी में रिश्ता ढोते गए। हालांकि जीवन में अगर आप अकेले होते तो भी कष्ट तो ऐसे ही रहते। इसलिए मैंने ख़ुद से कहा- "जीना मगर एज पर जीना। किसी के लिए बचना मत। कि जीवन को जब तक तुम किसी धार पर रखोगे, वह मरने से बचने की जुगत में लगा रहेगा। जिस दिन उसे बचाना चाहोगे, वह तुम्हारी आत्मा को चीरता हुआ नष्ट होने लगेगा।"
यही हाल रिश्तों का है। लोग बचाने की पवित्र जुगत में ख़ुद को नष्ट करते जाते हैं। मुझे अब तक केवल ये समझ आया है कि नष्ट होती चीज़ों के प्रति उदासीन रहो। और कोई हल नहीं है।

भूल जाओ

कोई इतना पास से गुज़र जाए और देख न सकें उसकी सूरत तो दिल उदास हो जाता है। धूप के तलबगार छोटे छोटे दिन आने को हैं ताकि याद की लंबी रातों में की जा सके अतीत की लंबी जुगाली। और बहुत सारी बेवजह की बातें। 
भूल जाओ
पगडंडी के पत्थर से लगी चोट थी
वो बबूल का एक नुकीला कांटा था।

ये भी भूल जाओ कि तुमने ये बात पढ़ी।
* * *

ये रंग
तुम्हारी अंगुलियों की
खुशबू बारे में कुछ नहीं कहता। 
ज़रा पास आओ।  * * *

इसलिए मेरी जिज्ञासा का रंग सलेटी है
कि देखूँ   तुम्हें छूकर ढल जाए जाने किस रंग में।  * * *

विवेक से भरे दुख
और ईश्वर के बीच की दूरी बहुत कम होती है

इसलिए तुम कहीं मत जाओ।  * * *
इस पर भी अगर आप
दो कदम और चल सकें तो  मिट सकता है भरम  कि ईश्वर कोई चीज़ नहीं होती, दुख भी कुछ नहीं होता।
* * *

मेरी नास्तिकता पर  तुम्हें दया आ सकती है
हो सकता है कि तुम मेरा सिर भी फोड़ दो।

मैं अगर तुमसे प्यार करता हूँ, तो इसके सिवा कुछ नहीं कर सकता।
* * *
कोई समझ नहीं सकता किसी का दुख
आस पास के लोग सिर्फ हिला सकते हैं गरदन
दूर बैठे हुये लोग भेज सकते हैं अफसोस से भर संदेशे
प्रेमी रो सकता है, उस दुख से भी…