Skip to main content

प्रेम, हथेली के बीच का फफोला


नरम गुदगुदे बिस्तरों में किसी गरमाहट को बुनते जाने का मौसम रेगिस्तान से विदा हो चुका था। आधी रात को नींद ने सुख के बिस्तर पर आने से मना कर दिया। कभी मैंने रेलगाड़ी के निम्नतम दर्ज़े के डिब्बे में दरवाज़े पर नींद को पाया। रेल के सफ़र में नींद के झौंके आते रहे और मैं अखबार बिछाए हुये न बैठ सकने जितनी जगह पर सो गया था। ज़िंदगी ऐसी ही है। ऐसा ही बर्ताव करती है। मैं उठ कर बैठ गया। आभा ने पूछा क्या हुआ? मैंने कहा कोई बात नहीं है। मैं घर के नीचे वाले तल पर जाकर दवा खाकर आता हूँ। मैं ज़रा सी देर लगा कर आया। रात के इस गरम मौसम में उसे भी नींद कहाँ आनी थी। पहले माले तक आने में शायद वक़्त ज्यादा लगाया इसलिए उसने पूछा बड़ी देर लगाई। मैंने कहा कि अलमारी के सामने खड़ा हुआ, सोचने लगा था। कि मैं खुद को धोखे क्यों देता हूँ। जो मुझे साफ दिखता है, उसके अपनी मर्ज़ी के माने क्यों निकालता हूँ। मैं खुद के लिए बड़ा लापरवाह आदमी हूँ इसलिए परेशान हूँ। उसने कहा- न सोचिए। सो जाईए। 

मेरी नींद के बीच एक लहर थी। वह बार बार मुझे रोक रही थी। मैं इस जगत में कुछ ऐसा था जैसे समंदर में उछलती हुई छोटी खाली प्लास्टिक बोतल हो। जिसका अपना कोई वुजूद नहीं होता। लहर आती और अपने हिसाब उठा गिरा देती है। मैं भरी हुई बोतल होता तो ज़रा सा प्रतिरोध भी करता मगर मेरे भीतर का द्रव्य सूख चुका है। मैं खाली होकर भी खाली नहीं हूँ। बस बेढब के विचारों से भरा हुआ हूँ। मैंने कहा सुनो। मैं ज़रा देर लेपटोप पर काम कर लूँ। उसने कहा कि ऐसा करने से नींद न आएगी। मैंने कहा कि इस बेचैनी को बाहर का रास्ता दिखाने का एक ही तरीका है। शब्द। 

अपने दिल का हाल लिखने लगता हूँ। चार पंक्तियों के बाद लगता है कि ज़िंदगी के पानी में उठ रही बेचैनी की लहरों पर सूखे हुये बेबस पत्ते जैसा एक लम्हा स्थिर होने को है। मैंने लिखा कि ज़िंदगी के जींस में बदलाव नहीं किया जा सकता है। जिसकी फितरत दुख उठाना है वह हर हाल में उसे खोज लाएगा। इसलिए मैं उसका नाम दिल में छुपा लूँ पूरा का पूरा ताकि बाहर की खोज का काम खत्म हो जाए। उसके आचरण से मुझे होने वाली तकलीफ के बीच एक पलकों का पर्दा आ सके। कविता को पूरा करते ही पाता हूँ कि एक दोस्त का मेसेज रखा हुआ है। मैं ऐसे ही उसे कहता हूँ कि जाग रही हो तो कविता पढ़ लो। वह बिना देखे कहती है। आपकी कविता में मेरे लिए कुछ नहीं होता। मैं कहता हूँ कि अच्छा है न, ऐसी कविताओं में क्योकर हो तुम्हारा नाम। 

केसी कभी बताओगे वह कौन है?
मैं कहता हूँ- नहीं। 
* * *

रात एक बजे कहीं से भूला भटका हुआ नींद का झौंका, एक सपना साथ लेकर आया। मैं किसी कॉफी शॉप में कुछ ऑर्डर कर रहा हूँ। सुबह का वक़्त है। मैं कुछ वकीलों के बीच घिरा हुआ हूँ। सब तरफ मेरी पहचान के चहरे हैं। वे पश्चिम के भोजन का ऑर्डर दे रहे हैं। वे कहीं बैठ पाने की जगह को दबा लेने को आतुर हैं। उनके मन में दया नहीं है। उनमें भावना जैसा कोई जींस नहीं दिखता है। मैं अचानक से उसी कॉफी शॉप में एक सलून पाता हूँ। कहता हूँ मुझे हेयर कट चाहिए। वह मोटा सा आदमी मेरे बालों पर एक फव्वारे से पानी छिड़कने लगता है। मैं देखता हूँ कि बाल पूरे भीग गए हैं। भीगे हुये बाल अच्छे दिख रहे हैं। उससे पूछ लेना चाहता हूँ कि क्या कोई ऐसी क्रीम है जिससे मेरे बाल हरदम ऐसे ही भीगे हुये दिखते रहें। वह इसका कोई जवाब नहीं देता। मैं अपने बालों को बड़ी हसरत से देखता हूँ। मैं इनको कटवाना नहीं चाहता हूँ। सपना फिर किसी और रेस्तरां तक ले जाता है। फिर वे ही लोग। अचानक से सपना मुझे एक पुराने घर में ले आता है। वह घर मेरे सपनों की यात्रा का एक ज़रूरी और अस्थायी पड़ाव है। उस घर से बाहर देखते हुये पाता हूँ कि मेरे पास एक कड़ी दोपहर है। मैं चाहता हूँ किसी सड़क के किनारे किसी पेड़ की छांव में तनहा बैठ सकूँ। 
* * *

सुबह का अखबार एक स्मृति संदेश लेकर आता है। पापा की पाँचवीं पुण्य तिथि। वही नेक आदमी जिसने मुझे इस लायक बनाया कि मैं अपने दिल का हाल इस तरह किसी पोस्ट में लिख कर सुकून पा सकूँ। वही आदमी जिसकी तस्वीर के सामने खड़े होकर पंद्रह दिन पहले मैंने कहा था- पापा मैं अच्छा आदमी हूँ। मैं किसी का दिल नहीं दुखाता हूँ। मुझे इस एनजायटी से बाहर निकालो। कहता हूँ कि मैंने आपसे जीवन भर जाने क्या क्या मांगा होगा। आज एक बार आपसे ये और मांगता हूँ। उस वक़्त, मैं बेहिसाब दर्द और बेहिसाब खुशी से भरा हुआ उनकी तस्वीर देख रहा था। मुझे इस तरह के हाल में देख सकने के लिए घर में कोई नहीं था। मुझे लगा कि पापा को कह दिया, अब सब आसान हो जाएगा। उन पर यकीन है। वे मेरी बात सुनते हैं। 

ये उन दिनों के ठीक बीच वाले दिन की बात है, जब मैं दर्द के झूले पर सवार था। झूले की हर पींग के साथ आँसू निकल आते थे।
* * *

सुबह के इन ख़यालों को किसी के रुदन ने तोड़ा। 
सामने वाले घर का इकतालीस साल का आदमी चल बसा है। उसका नाम रामेश्वर लुहार था। मेरी स्मृतियों में वह मुझे दस साल का याद आता है। उसके पिता घर में बनी एक भट्टी में लोहा कूटते थे। वह एक दिन मेरे पास आया। उसके हाथ में एक लोहे की छड़ थी। उसने कहा कि तुम इसको खींच सकते हो। मैंने कहा- हाँ। मैंने उसकी छड़ खींच ली। वह उदास हो गया। उसने कहा- मैं अभी आता हूँ। वह अपने घर के अंदर जाकर आया। उसने फिर से मुझे कहा- एक बार और खींचोगे। मैंने कहा- हाँ। उसने लोहे की छड़ मेरे सामने की। मैंने उसे खींचने के लिए पकड़ा तो दोनों हथेलियाँ जल गयी। इस बार वह घर के अंदर बुझी हुई भट्टी के बचे हुये अंगारों में छड़ को गरम करके लाया था। मेरे हाथों में फफोले निकल आए। वह भागता हुआ गली में दूर गायब हो गया। उसकी माँ ने मेरे हाथ देखे तो उसकी आँखों में आँसू आ गए। 

कई दिनों तक अपनी हथेली के छालों को लिए हुये मैं एक बारह साल का लड़का स्कूल और घर के बीच सब कुछ भूल जाना चाहता था। वक़्त ने हथेली में बनी हुई भाग्य की रेखाओं पर उग आए फफोलों को मिटा दिया। वे पुराने पत्तों की तरह झड़ कर गायब हो गए। मेरे आँसू सूख गए। मैं अपना दर्द भूल गया। मगर ज़िंदगी मुझे बहला कर फिर कहती है, उम्मीद की छड़ी थामोगे? मैं कहता हूँ- हाँ। वह फिर से मेरे नसीब की हथेलियों पर कुछ फफोले रख देती है। रामेश्वर, मुझे कहता था। आप रेडियो में कितना अच्छा बोलते हो। आज की शाम को एक गाना ज़रूर बजाना। बींटी म्हारे सोने री हवती, बींटी म्हारे रूपे री हवती। राजस्थान का एक लोकगीत है। खोयी हुई मुन्दरी की याद का गीत। यह गीत उस खोयी चीज़ की तारीफ करता है। कहता है कि वह सोने की थी, वह अनमोल थी, वह मेरी इस अंगुली में रहती थी, उसके होने से मेरी अंगुली का रंग गोरा था। एक दिन ऐसे ही ज़िंदगी की अंगुली में पहनी हुई सांस जैसी मुन्दरी खो जाती है और पीछे रह जाती विष की खली। 

खिड़की के नीचे कुछ लोग सर पर शोक को बांधे हुये हुये बैठे हैं। मैं भी रामेश्वर को एक कंधा देने जा रहा हूँ। वह चला गया है मगर मेरे हाथ में न दिखने वाले बचपन के प्रेम के अमिट फफोले हैं। प्रेम ऐसा ही होता है, हथेली के बीच के फफोले जैसा।

जैसी तुम्हारी याद है। 
* * *

Popular posts from this blog

मैं कितना नादान था।

आवाज़ का कोई धुंधला टुकड़ा भीतर तक आता है. उस बुझी हुई आवाज़ वाले टुकड़े से अक्सर रोना सुनाई देने लगता है. मैं वाशरूम में एक जगह ठहर जाता हूँ. रोना धीरे सुनाई पड़ता है मगर मन तेज़ी से बुझने लगता है. शावर से पानी गिरता रहता है. वाशरूम की दीवारों को देखने लगता हूँ. वे सुन्दर हैं. इनकी टाइल्स नयी और चमकदार है. दीवार पर लगा पंखा भी अच्छा है. छत पर ज़रूर कहीं कहीं पानी की बूंदें सूख गयी हैं. 
पहले माले पर कुछ नयी आवाजें आने लगती हैं. पहले की उदास आवाज़ चुप हो जाती है. नयी आवाज़ का शोर चुभने लगता है. आँखें बंद करके लम्बी साँस लेना चाहता हूँ. भीगे सर को पंखे के सामने कर देता हूँ. इंतज़ार. और इंतज़ार मगर बदन ठंड से नहीं भर पाता. कुछ देर बाद पाता हूँ कि आवाज़ें बंद हो गयी हैं. भीगे बदन बाहर आता हूँ. 
दुनिया वहीँ है.

उदासी की आवाज़ों का झुण्ड धीरे-धीरे क्षितिज से इस पार बढ़ता जाता है. जैसे शाम की स्याही बढती है. जैसे मुंडेरों से उतर कर नींव के उखड़े पत्थरों तक चुप्पी आ बैठती है. नीली रौशनी वाला तारा टूटता है. जैसे किसी ने एस ओ एस भेजा है कि किसी ने संकेत किया है बस यहीं दाग दो.  * * *
मेरी आँखों में
मेरे हो…

नष्ट होती चीज़ों के प्रति

मरम्मतें मुकम्मल नहीं होती
कि जो एक बार टूट जाता है, बार-बार टूटता रहता है।

मैं भटकता रहा। देहगंध के लिए नहीं वरन अपनी तन्हाई की तलाश में। इस तलाश में मैंने कीकर पाए। कीकर के कांटों से बहुत गहरा प्रेम किया। उनकी चुभन आवरण में छुपने का अवसर नहीं देती। आप दूर से ही दिख जाते हैं, बिंधे हुए। दर्द से भरे। लड़खड़ाते चलते। मुझे ये अच्छा लगता है कि आदमी जैसा है, औरत जैसी है। वैसी रहे और दिखे भी।
मुझे उन लोगों से प्रेम न हुआ, जो किसी मजबूरी में रिश्ता ढोते गए। हालांकि जीवन में अगर आप अकेले होते तो भी कष्ट तो ऐसे ही रहते। इसलिए मैंने ख़ुद से कहा- "जीना मगर एज पर जीना। किसी के लिए बचना मत। कि जीवन को जब तक तुम किसी धार पर रखोगे, वह मरने से बचने की जुगत में लगा रहेगा। जिस दिन उसे बचाना चाहोगे, वह तुम्हारी आत्मा को चीरता हुआ नष्ट होने लगेगा।"
यही हाल रिश्तों का है। लोग बचाने की पवित्र जुगत में ख़ुद को नष्ट करते जाते हैं। मुझे अब तक केवल ये समझ आया है कि नष्ट होती चीज़ों के प्रति उदासीन रहो। और कोई हल नहीं है।

भूल जाओ

कोई इतना पास से गुज़र जाए और देख न सकें उसकी सूरत तो दिल उदास हो जाता है। धूप के तलबगार छोटे छोटे दिन आने को हैं ताकि याद की लंबी रातों में की जा सके अतीत की लंबी जुगाली। और बहुत सारी बेवजह की बातें। 
भूल जाओ
पगडंडी के पत्थर से लगी चोट थी
वो बबूल का एक नुकीला कांटा था।

ये भी भूल जाओ कि तुमने ये बात पढ़ी।
* * *

ये रंग
तुम्हारी अंगुलियों की
खुशबू बारे में कुछ नहीं कहता। 
ज़रा पास आओ।  * * *

इसलिए मेरी जिज्ञासा का रंग सलेटी है
कि देखूँ   तुम्हें छूकर ढल जाए जाने किस रंग में।  * * *

विवेक से भरे दुख
और ईश्वर के बीच की दूरी बहुत कम होती है

इसलिए तुम कहीं मत जाओ।  * * *
इस पर भी अगर आप
दो कदम और चल सकें तो  मिट सकता है भरम  कि ईश्वर कोई चीज़ नहीं होती, दुख भी कुछ नहीं होता।
* * *

मेरी नास्तिकता पर  तुम्हें दया आ सकती है
हो सकता है कि तुम मेरा सिर भी फोड़ दो।

मैं अगर तुमसे प्यार करता हूँ, तो इसके सिवा कुछ नहीं कर सकता।
* * *
कोई समझ नहीं सकता किसी का दुख
आस पास के लोग सिर्फ हिला सकते हैं गरदन
दूर बैठे हुये लोग भेज सकते हैं अफसोस से भर संदेशे
प्रेमी रो सकता है, उस दुख से भी…