Skip to main content

कि मैं और तूँ रह गए हम नहीं

श्री चिड़ीमार कथा के बाद मैं आपको अपने कस्बे के स्कूल का ज़रा सा मौसम दिखा देता हूँ.

बाड़मेर का हाई स्कूल एक भव्य विद्यालय था. दो हज़ार से अधिक बच्चे पढ़ते थे. कक्षाओं के सेक्शन ए से पी तक पहुँच जाते थे. विद्यालय में किसी बच्चे को बिना सेक्शन की जानकारी के खोजना असंभव सा था. निजी शिक्षा ने हमारी आनंदमयी स्कूलों खत्म कर दिया है. निजी स्कूलों के नाम पर बाड़े बचे हैं. अब न हंसोड़ अध्यापक दीखते हैं न बिना डर वाले बच्चे. सबकुछ एक होड़ ने निगल लिया है.

स्कूल दो पारियों में लगता था. स्कूल में आगे हॉकी का मैदान था. स्कूल के पीछे फ़ुटबाल का मैदान था. लेकिन पिछले मैदान में रेत अधिक होने के कारण लड़के हॉकी वाले मैदान में फुटबाल की प्रेक्टिस किया करते थे. मंच के बाएं प्रिंसिपल साहब का ऑफिस और उसके पास एडमिन के कमरे थे. दूजी तरफ गर्ल्स रूम था. उसके ठीक पास लाइब्रेरी का हॉल था. जहाँ कभी-कभी वाद-विवाद और भाषण प्रतियोगिताएं आयोजित होती थी. स्कूल में कुछ अच्छे डिबेटर लडके थे. एक था राजेश जोशी दूजा अनिल कुमार सिंह. मैं भी लगभग हर डिबेट में होता था. हम तीनों स्कूल आते या न आते मगर वाद विवाद प्रतियोगिता में ज़रूर एक साथ बैठे होते. अमित को इस तरह के आयोजनों में कोई दिलचस्पी नहीं थी. वह ऐसे आयोजनों के समय दल्लू जी की कचोरी खाने निकल पड़ता था.

एक माड़सा थे मग सिंह जी. हंसोड़ नहीं थे मगर चुटकियाँ लेने के माहिर थे और छात्रों में खूब लोकप्रिय थे. हमारे यहाँ लहंगे को घाघरा भी कहते हैं. घाघरे की निचली कोर से थोड़ा ऊपर एक अलग रंग की बेहद पतली तार जैसी कपड़े की लकीर लगायी जाती है. ये गोल घेर को सुन्दर बनाती है. इसे मगजी कहते हैं. माड़सा से किसी लडके ने पूछा कि माड़सा थोरों नोम की है? माने आपका नाम क्या है. वे कहते- "थारी बाई घाघरे हेटे लगावे जीको." ये बेहद श्लील प्रहसन खूब प्रसिद्द था. मुझे नहीं मालूम कि किसी लड़के ने ऐसा पूछा था या नहीं या माड़सा ऐसा कहते थे या नहीं. मगजी माड़सा को प्रिंसिपल साहब ने किसी बात पर कहा कि मिठाई खिलाओ. वे बाहर आए और महिला चपरासी को कहा कि बाई जी आपको प्रिंसिपल साहब बुला रहे हैं. बाई जी अंदर गयी. प्रिंसिपल साहब ने कहा कि मैंने तो नहीं बुलाया है. उन बाई जी का नाम था इमरती देवी.

हमारे ऐसे माड़सा स्कूल के बाद भी जहाँ कहीं लड़कों को घूमते देखते तो पूरा ध्यान रखते. अगले दिन कक्षा में आते ही सबके सामने पूछते कल कहाँ घूम रहा था? इसके बाद अगला असंगत सवाल होता कि पिछले टेस्ट में अंग्रेजी में कितने नम्बर आये थे.

सभी लोकप्रिय मास्टर अपनी कक्षाएं बड़ के पेड़ के नीचे लगाया करते थे. स्कूल में विद्यार्थी बहुत ज्यादा थे. उनके संख्या बल के आगे सभी कमरों का नाप छोटा पड़ चुका था. इसलिए सौ-सौ विद्यार्थी बाड़े की भेड़ों की तरह बैठे रहते थे. ज़मीन में छुपे हुए बारीक परजीवी लड़कों लड़कियों की टांगों से खून चूसते जाते थे. आखिर दो हज़ार से अधिक बच्चों और ए से पी सेक्शन तक पहुँच चुकी क्लासों को इसी तरह ही मेनेज किया जा सकता था. ऐसी ही कक्षा बड़ के पेड़ के नीचे लगी होती और स्टाफरूम के पास से अमित आता और लड़कों की भीड़ में मुझे खोजने लगता. हमारी नज़रें मिलती तो इशारों में ये तय हो जाता कि व रुके या चला जाये. अक्सर मैं मना कर देता कि समय से घर आना घर कि पहली शर्त थी.

स्कूल के वे दिन सरल थे. जटिलताएं छू भी नहीं पाती थी.

स्कूल के दिनों से बाहर तीन लंबे सालों का लीप लेते हुए सीधा उस दिन पर आ जाता हूँ जब अमित खूब चिंतित था. मैं ये लीप इसलिए ले रहा हूँ कि इन तीन साल में मैं और अमित नहीं मिल सके. मैं अलग काम में लग गया था. मैं छात्र आन्दोलन में काम कर रहा था और अमित अक्सर किशोर कुमार के गाने सुनता और अपने लेखन में खोया रहता था. अमित की चाहना थी कि वह मुम्बई विश्व विद्यालय से हिंदी में एम ए करे. उसके घरवाले तैयार न थे. अमित का प्लान था कि वह वहाँ एम ए करने के दौरान फिल्मों में स्क्रिप्ट लेखन में अपने हाथ आजमाएगा. दो साल वहाँ रहने के दौरान पढाई भी हो सकेगी और काम के लिए तलाश भी. अमित को मुम्बई जाने की स्वीकृति नहीं मिली. घरवाले चाहते थे कि वह शादी कर ले और घर संसार को आगे बढ़ाये.

इस खींचतान में अमित ने एक ऐसा समझौता किया जिसने उसके जीवन को बदल दिया. उस दिन अमित मेरे पास बैठा था. वह शायद संजय के पास भी जाकर आया होगा. उसने मुझे कहा कि मैंने एक समझौता सोचा है. मैं पिताजी का कहना मान कर शादी कर लेता हूँ. इस पर वे मुझे बोम्बे जाने देंगे. मैंने कहा- "तुम पागल हो क्या? इसका मतलब जानते हो?" उसने किसी फिल्म के संवाद की तरह कुछ ऐसी बात कही जिसका अर्थ था कि अगर ज़िंदगी हमारे साथ दांव खेलना चाहती है तो हमें उसका स्वागत करना चाहिए.



कुछ दिन बाद अमित दूल्हा बना हुआ था. मैं और संजय बारात की किसी जीप में बैठे हुए इन्द्रोई गाँव की तरफ जा रहे थे. मैं एक लेखक के पास बैठा था. संजय व्यास जिसकी कहानियां पत्रिकों में छपती थी. जीप रेत के धोरों के बीच बॉर्डर की ओर बढ़ी जा रही थी. इसी जीप यात्रा और अमित की शादी में मुझे संजय के साथ बहुत सारा समय बिताने को मिला. संजय और अमित पक्के मित्र थे. इसी तरह मैं और अमित भी थे लेकिन संजय से पहचान इसी समय मित्रता में बदलने लगी. शाम को मैं और संजय इन्द्रोई गाँव के रेत के धोरों पर घूमे. अँधेरा घिरते ही अमित विवाह के फेरे खाने चला गया. वहाँ मेहमानों के लिए कच्ची शराब थी. मैंने भी एक कप पी. उस एक कप शराब के पीते ही मुझे उल्टी हो गयी और फिर जाने कब सो गया. सुबह तक अमित विवाहित जीवन जीने के फेरे ले चुका था. घरवाले खुश थे. उसके पिताजी के चेहरे पर संतोष और गर्व का भाव था. ये सामाजिक होने का दर्प था.

इसके कुछ ही दिन बाद अमित ने कहा- "बंधू कल की शाम बाड़मेर की आखिरी शाम होगी." मैं मालगोदाम रोड पर खड़ी एक बस के पास खड़ा था. वह बस बोम्बे जाती थी. अमित के लिए ये सपने के सच होने की शुरुआत थी. हम गले मिले. उसने बस के रवाना होने से पहले मेरे हाथ में एक पर्ची रखी. जब बस चली गयी और मैं घर आया तब मैंने उसे पढ़ा. उसमें लिखा था- क़यामत से कम यार ये ग़म नहीं / कि मैं और तूँ रह गए हम नहीं.

अम्बर टाकीज में जब फिल्म के क्रेडिट दिखाई देते थे तब लोग उन क्रेडिट्स को नज़र अंदाज किये हुए फ़िल्म के शुरू होने का इंतज़ार करते थे या एक्जिट से बाहर जा रहे होते थे लेकिन अमित की नज़रें उन क्रेडिट्स को पढ़ रही होती थी. मोहन जी के सिनेमा के जिस दरवाज़े को मैं नरक का द्वार समझता था वह अमित के सपनों का सुनहला आईना था. वही आईना उसे रेगिस्तान से उस समंदर के किनारे ले गया जहाँ मायावी संसार बसा हुआ था. बोम्बे.
* * *

बात अभी जारी है. 

Popular posts from this blog

मैं कितना नादान था।

आवाज़ का कोई धुंधला टुकड़ा भीतर तक आता है. उस बुझी हुई आवाज़ वाले टुकड़े से अक्सर रोना सुनाई देने लगता है. मैं वाशरूम में एक जगह ठहर जाता हूँ. रोना धीरे सुनाई पड़ता है मगर मन तेज़ी से बुझने लगता है. शावर से पानी गिरता रहता है. वाशरूम की दीवारों को देखने लगता हूँ. वे सुन्दर हैं. इनकी टाइल्स नयी और चमकदार है. दीवार पर लगा पंखा भी अच्छा है. छत पर ज़रूर कहीं कहीं पानी की बूंदें सूख गयी हैं. 
पहले माले पर कुछ नयी आवाजें आने लगती हैं. पहले की उदास आवाज़ चुप हो जाती है. नयी आवाज़ का शोर चुभने लगता है. आँखें बंद करके लम्बी साँस लेना चाहता हूँ. भीगे सर को पंखे के सामने कर देता हूँ. इंतज़ार. और इंतज़ार मगर बदन ठंड से नहीं भर पाता. कुछ देर बाद पाता हूँ कि आवाज़ें बंद हो गयी हैं. भीगे बदन बाहर आता हूँ. 
दुनिया वहीँ है.

उदासी की आवाज़ों का झुण्ड धीरे-धीरे क्षितिज से इस पार बढ़ता जाता है. जैसे शाम की स्याही बढती है. जैसे मुंडेरों से उतर कर नींव के उखड़े पत्थरों तक चुप्पी आ बैठती है. नीली रौशनी वाला तारा टूटता है. जैसे किसी ने एस ओ एस भेजा है कि किसी ने संकेत किया है बस यहीं दाग दो.  * * *
मेरी आँखों में
मेरे हो…

नष्ट होती चीज़ों के प्रति

मरम्मतें मुकम्मल नहीं होती
कि जो एक बार टूट जाता है, बार-बार टूटता रहता है।

मैं भटकता रहा। देहगंध के लिए नहीं वरन अपनी तन्हाई की तलाश में। इस तलाश में मैंने कीकर पाए। कीकर के कांटों से बहुत गहरा प्रेम किया। उनकी चुभन आवरण में छुपने का अवसर नहीं देती। आप दूर से ही दिख जाते हैं, बिंधे हुए। दर्द से भरे। लड़खड़ाते चलते। मुझे ये अच्छा लगता है कि आदमी जैसा है, औरत जैसी है। वैसी रहे और दिखे भी।
मुझे उन लोगों से प्रेम न हुआ, जो किसी मजबूरी में रिश्ता ढोते गए। हालांकि जीवन में अगर आप अकेले होते तो भी कष्ट तो ऐसे ही रहते। इसलिए मैंने ख़ुद से कहा- "जीना मगर एज पर जीना। किसी के लिए बचना मत। कि जीवन को जब तक तुम किसी धार पर रखोगे, वह मरने से बचने की जुगत में लगा रहेगा। जिस दिन उसे बचाना चाहोगे, वह तुम्हारी आत्मा को चीरता हुआ नष्ट होने लगेगा।"
यही हाल रिश्तों का है। लोग बचाने की पवित्र जुगत में ख़ुद को नष्ट करते जाते हैं। मुझे अब तक केवल ये समझ आया है कि नष्ट होती चीज़ों के प्रति उदासीन रहो। और कोई हल नहीं है।

भूल जाओ

कोई इतना पास से गुज़र जाए और देख न सकें उसकी सूरत तो दिल उदास हो जाता है। धूप के तलबगार छोटे छोटे दिन आने को हैं ताकि याद की लंबी रातों में की जा सके अतीत की लंबी जुगाली। और बहुत सारी बेवजह की बातें। 
भूल जाओ
पगडंडी के पत्थर से लगी चोट थी
वो बबूल का एक नुकीला कांटा था।

ये भी भूल जाओ कि तुमने ये बात पढ़ी।
* * *

ये रंग
तुम्हारी अंगुलियों की
खुशबू बारे में कुछ नहीं कहता। 
ज़रा पास आओ।  * * *

इसलिए मेरी जिज्ञासा का रंग सलेटी है
कि देखूँ   तुम्हें छूकर ढल जाए जाने किस रंग में।  * * *

विवेक से भरे दुख
और ईश्वर के बीच की दूरी बहुत कम होती है

इसलिए तुम कहीं मत जाओ।  * * *
इस पर भी अगर आप
दो कदम और चल सकें तो  मिट सकता है भरम  कि ईश्वर कोई चीज़ नहीं होती, दुख भी कुछ नहीं होता।
* * *

मेरी नास्तिकता पर  तुम्हें दया आ सकती है
हो सकता है कि तुम मेरा सिर भी फोड़ दो।

मैं अगर तुमसे प्यार करता हूँ, तो इसके सिवा कुछ नहीं कर सकता।
* * *
कोई समझ नहीं सकता किसी का दुख
आस पास के लोग सिर्फ हिला सकते हैं गरदन
दूर बैठे हुये लोग भेज सकते हैं अफसोस से भर संदेशे
प्रेमी रो सकता है, उस दुख से भी…