July 29, 2020

इक सिहरन


सर्द रात में
बेहद ठंडे लिहाफ के भीतर
शैतान पूछता है, अब चूम लें?
लिहाफ में कोई नहीं होता
शैतान के सिवा।
उसकी पीठ के पीछे खड़ी
कमसिन लड़की
शाम ढलने से पहले जा चुकी होती है।
शैतान जिसे अपनी प्रेमिका नहीं कह पाता।
शैतान मुस्कुराता है
उसके होने के लिए, उसका होना ज़रूरी नहीं है।
* * *
कितने बदन
कितने अवसर
कितनी जगहें थीं।
शैतान को कुछ याद नहीं
सिवा इसके कि उसने कहा था
सब पूछ कर करोगे?
जबकि शैतान कुछ न करता था
न प्यार, न इंतज़ार।
* * *
कितने ही झूठ बोले
कितने ही बहाने बनाये
कितना ही यकीन दिलाया।
मगर शैतान को कोई असर न था
कि वह जानता था
सबकी अपनी एक ज़िन्दगी होती है।
वो ज़िन्दगी
जिसमें किसी के साथ सोना गुनाह गिना जाता है।
* * *
अगर शैतान उसे कह देता
अगर शैतान उससे पूछ लेता
कि प्रेम के बारे में क्या ख़याल है?
इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता
न वह कह पाती,
न शैतान उसका नाम पुकार पाता।
* * *
शैतान ने कहा
हवस पर प्रेम का वर्क अच्छा नहीं होता
इससे दोनों का लुत्फ़ मर जाता है।
* * *
काश कि वह अभी तक सोई न हो
काश कि वह सोच रही हो
कि शैतान से कभी न कहूंगी कि प्यार है।
* * *
शैतान की प्रेमिका कोई वैद्य ही होगी
इसलिए कि शैतान उसका बीमार है।
* * *
कभी-कभी शैतान दीवाना हो जाता था
वह उसे चुरा लाना चाहता था।
मगर डरता था, जैसे बच्चे फूल तोड़ते हुए डरते हैं।
* * *
शैतान कोई अच्छा आदमी न था
वह ख़यालों में ही बोसे देने लगता था।
उसके भरे-भरे गाल
और अधिक सुर्ख होने लगते थे।
जैसे ऊंची घास में खरगोश के भागने पर
इक सिहरन होती है।
* * *

July 16, 2020

कभी दूर तक साथ पैदल चलने

कुर्सी पर बैठे, आंगन में पैर फैलाये बेसबब आसमान देखते जाना। कभी बहुत महीनों बाद कहीं जाने का सोचना। किसी मुलाक़ात का ख़याल आना। कहीं होकर कहीं न होना सोचकर मन मुस्कुराते जाना।

कहीं संजीदा शाम गुज़ार देने, कभी दूर तक साथ पैदल चलने और कभी अब तक का सबकुछ भूल जीने का ख़याल कितना अच्छा होता।
रात देर तक जागना। सुबह अलसाये पड़े रहना।
लेकिन कभी-कभी वक़्त इस तरह ठहर जाता है जैसे किसी पुरानी तस्वीर के सामने खड़े हो गए हैं।

July 10, 2020

जालीदार रोशनी के पास

आंखों के आगे एक स्याह पर्दा खिंच जाता। इसके क्षणभर बाद रोशनी की लकीरें उग आती। ऐसा होना बहुत जादुई था। आंखों को सबकुछ साफ दिखने लगे, उससे पहले मैं आंखें बंद कर लेता था।

बंद आंखों में मुझे पत्थर पर नक्काशी से बनाई गई जाली से छनकर आती रोशनी दिखती थी। दरीचे के भीतर कोई बैठा दिखता था। उस स्याह परछाई पर जहां रोशनी गिरती वह देखकर लगता कि यहां कोई बैठा है।
उसका होना ऐसा होता कि जैसे अंधेरे की अनेक पतली बीम बदन के पार निकल रही है। परछाई कोई ऐसा आदमी या औरत है, जिसके बदन में अनेक सुराख हैं। अगर उनमें से किसी भी एक सुराख से भीतर जाय जाए तो सम्भव है, वहां अनेक रास्ते हैं।
मैं उसके क़रीब जाने को बढ़ता हूँ तो हर कदम पर उसका आकार बदलता जाता है। रोशनी में चमकते बदन में स्याही के सुराख अपनी जगह बदलने लगते हैं मगर उसे कुछ नहीं होता। वह परछाई स्तब्ध कर देने जितनी स्थिर रहती है। उसे इतना स्थिर जानकर मैं सहमने लगता हूँ।
एक दीवार का सहारा लेकर खड़ा होता हूँ और सोचता हूँ कि उसके बदन को कौन जाहिर कर रहा है। स्याही या रोशनी? अगर केवल स्याही होती या केवल रोशनी होती तो क्या मैं उसे देख सकता था। शायद नहीं। इसलिए कि दो के बिना एक को ठीक महसूस नहीं किया जा सकता। प्रेम-घृणा, सहवास-बिछोह, भला-बुरा और इसी तरह अनगिनत अनुभूतियाँ किसी एक के होने पर ठीक समझी नहीं जा सकती।
दुख भी ऐसे ही थे। अगर सुख की कल्पना न की होती तो वे मेरे अपरिहार्य हिस्से की तरह साथ चलते और वे अजीब या बुरे नहीं कहे जाते। नित नए किन्तु एक से दुख मिलते रहें तो भी आदमी चलता रहता है। कभी किसी हादसे की तरह कोई सुख मिल जाये तो वही आदमी जो दुःखों का अभ्यस्त होने से अधिक दुःखों से एकमेव था, सुख देखकर रो पड़ता है।
कभी सुख न मिले तो दुःख उतने दुःखी नहीं करते।
सुख से औचक परिचय मुझे अतीत के दुखों तक ले जाता है। मैंने सुख को अक्सर छलिया पाया है। उसके पास अनेक भेष होते हैं। भीतर से वह एक कड़ा दुःख होता है। इस तरह का अनुभव सुखों के प्रति आशंकित कर देता है।
वह जो जालीदार रोशनी के पास बैठा हुआ दिखता है, वह मैं ही होता हूँ। अक्सर अपने पास नहीं जाना चाहता कि कौन सीले दुःखों और भुरभुरे सुखों के पास बैठ कर अपना मन भिगोये। कौन अपनी आंखें उड़ती बारीक धूल में खुली रखे।
मगर जालीदार दरीचे मुझे बेहद लुभाते हैं। मैं उन्हीं दरीचों में बैठे रहना चाहता हूँ।

21 comments

July 8, 2020

भूलने का सबसे बढ़िया तरीका

मैं एक बेचैन आदमी था इसलिए एक अच्छा जुआरी था।

जुआ में
कोई जीतता नहीं था
एक दिन सब हार जाते थे।
हर बार हारकर मैं जुआरी,
सोता था ये तय करके
कि अब कभी कोई जुआ न करूँगा
मैं जागते ही जुआरियों को ढूंढने लगता था।
मुझे मेरा अंजाम मालूम था
एक दिन चौपड़ के बाहर पड़ा होऊंगा
घिसे हुए पासे की तरह
फटे ताश के पत्ते की तरह।
लेकिन जुआ
ज़िन्दगी को भूलने का सबसे बढ़िया तरीका है
यही सोचकर कभी कोई अफ़सोस न हुआ।
* * *

July 6, 2020

किसी अनिच्छा की तरह

जैसे पानी में छपाक की आवाज़ से अक्सर डर जाता हूँ और फिर किसी को तैरते देखकर अविराम उसे देखता रहता हूँ।
दोपहर को झड़ते
धूप के फाहे
फूल हुए जाते थे।
ये ऐतबार करने की
बात न थी
मगर बात तो यही थी।
हर बार अचम्भे के पास शब्द नहीं होते। केवल एक विस्मित दृष्टि होती है। कभी-कभी अचम्भे के बाद उड़ते पंछियों के शोर से आकाश भर उठता है।
सूने मकान की तरह जीवन, समय को बीतते हुए देखता खड़ा रहता है। खिड़कियों और खुले आलों से हवा बिन बोले बहती रहती है, उसी तरह समय गुज़रता है। एक ठहराव किसी अनिच्छा की तरह स्थायी घर लेता है। जीवन की अलमारियों की दराज़ों से चाहना गुम हो चुकी होती है।
कभी विस्मय का अंकुरण हो जाता है।
इसलिए कि ठहरा हुआ कुछ भी नहीं होता लेकिन हमेशा लगता है कि सब कुछ ठहर गया है। एक ऊब है, जिसने स्थायी घर कर लिया है। रंग घुलते जा रहे हैं मगर नया रंग नहीं दिखता। दोपहर में कोई छींटा गिरता है तब महसूस होता है कि ठहरा हुआ कुछ न था। एक निश्चित गति से सब बदल रहा था।
अवसाद, निराशा, हताशा की सघन स्याही छंट रही होती है मगर समझ नहीं आता। असल में जीवन एक शिकारी है। वो घात लगाए किसी आड़ में हमारा इंतज़ार करता है। अचानक सामने आकर चौंका देता है।

सर्द रात

एक सस्ती सराय के कमरे में रात दूसरा पहर ढल गया था। मेज़ पर मूंगफली और निचुड़े नींबू पड़े थे, वह सो चुका था।  लिफाह बेहद ठंडा था। ओलों के गिरने ...

Hathkadh । हथकढ़

हथकढ़, कच्ची शराब को कहते हैं. कच्ची शराब एक विचार की तरह है. जिसका राज्य तिरस्कार करता है. इसे अपराध की श्रेणी में रखता है. राज्य अपने जड़ होते विचारों के साथ जीने की शर्तें लागू करता है. मेरे पास विचार व्यक्त करने का कोई अनुज्ञापत्र नहीं है. इस ब्लॉग पर जो लिखता हूँ, वह एकदम कच्चा और अनधिकृत है. मेरे लिए ये नमक का कानून तोड़ने जितना ही अवैध है.