March 18, 2019

हर चीज़ बदलती है - ब्रेख़्त

हर चीज़ बदलती है।
अपनी आख़िरी सांस के साथ
तुम एक ताज़ा शुरुआत कर सकते हो।
लेकिन जो हो चुका, सो हो चुका।
जो पानी एक बार तुम शराब में
उड़ेल चुके हो, उसे विलग नहीं कर सकते।
जो हो चुका, सो हो चुका।
वह पानी जो एक बार
तुम शराब में उड़ेल चुके हो
उसे उलीच कर बाहर नहीं कर सकते।
लेकिन हर चीज़ बदलती है
अपनी हर अंतिम सांस के साथ
तुम एक ताज़ा शुरुआत कर सकते हो।
~ बर्तोल्त ब्रेख़्त
EVERYTHING CHANGES
Everything changes. You can make
A fresh start with your final breath.
But what has happened has happened. And the water
You once poured into the wine cannot be
Drained off again.
What has happened has happened. The water
You once poured into the wine cannot be
Drained off again, but
Everything changes. You can make
A fresh start with your final breath.
~Eugen Berthold Friedrich Brecht

सर्द रात

एक सस्ती सराय के कमरे में रात दूसरा पहर ढल गया था। मेज़ पर मूंगफली और निचुड़े नींबू पड़े थे, वह सो चुका था।  लिफाह बेहद ठंडा था। ओलों के गिरने ...

Hathkadh । हथकढ़

हथकढ़, कच्ची शराब को कहते हैं. कच्ची शराब एक विचार की तरह है. जिसका राज्य तिरस्कार करता है. इसे अपराध की श्रेणी में रखता है. राज्य अपने जड़ होते विचारों के साथ जीने की शर्तें लागू करता है. मेरे पास विचार व्यक्त करने का कोई अनुज्ञापत्र नहीं है. इस ब्लॉग पर जो लिखता हूँ, वह एकदम कच्चा और अनधिकृत है. मेरे लिए ये नमक का कानून तोड़ने जितना ही अवैध है.