December 4, 2020

वो नाकाफी था

रेगिस्तानी साज़ों के सुर अक्सर पीछे छूट जाते थे। कोई जोगन मगर कहीं औचक आवाज़ देकर रोक लेती थी। कि जो जाना था, वो नाकाफी था कि जो होना है, वह बहुत कुछ है। * * *

मैं कहाँ कभी एक सी दिखती हूँ
मगर तुम उसके जैसे दिखते हो।
मैं जलती दियासलाई को बुझाना भूल जाता हूँ।
* * *
मुझे हर तौर से दिखो
मुझे हर तौर से देखो।
बस यही एक बात थी, जिसमें मोहब्बत का अंदेशा था।
* * *
मैं उसे देखने के बाद
बहुत देर तक देखता रहा।
वो अगर अजनबी था
तो इस तरह कौन अजनबी को देखता होगा?
* * *
अचानक उसकी एक तस्वीर भर देखकर
देर तक सोचता रहा कि ये मुझको क्या होता है।
* * *
कल मिलना
ये कहा था या नहीं कहा था
केवल उस रास्ते के वनफूल जानते थे।
मेरी याद में एक तिल था
जो शायद मेरा था और शायद उससे लेना था।
* * *
उसे कैसे पता होगा
मैं वनीली घास की तरह चुभ जाना चाहता हूँ
मैं वनीली घास की तरह बिछ जाना चाहता हूँ।
फिर सोचकर मुस्कुराता हूँ
कि जोगी क्या नहीं जानते।
* * *
मुझे मालूम है
कि रास्ता गुज़रता जाता है
कुछ भी रुकता नहीं है।
एक मैं और दूजा कोई नहीं है।
फिर ये कौन था,
हज़ार चहरे एक चहरे में बसाये हुए।
* * *
मैं अपनी हथेलियों में
उलट पुलट कर देख लेना चाहता
वह जो एक तस्वीर किसी जोगी की थी।
इस नादानी के सिवा
किसी बात पर इतना मुस्कुराया न जा सकता था।
* * *

No comments:

छीजने की आहट

मन एक तमाशा है  जो अपने प्रिय जादूगर का इंतज़ार करता है। शाम से बालकनी में बैठे हुए सुनाई पड़ता है। तुम कितने कोमल हो सकते हो? खुद से पूछने पर...

Hathkadh । हथकढ़

हथकढ़, कच्ची शराब को कहते हैं. कच्ची शराब एक विचार की तरह है. जिसका राज्य तिरस्कार करता है. इसे अपराध की श्रेणी में रखता है. राज्य अपने जड़ होते विचारों के साथ जीने की शर्तें लागू करता है. मेरे पास विचार व्यक्त करने का कोई अनुज्ञापत्र नहीं है. इस ब्लॉग पर जो लिखता हूँ, वह एकदम कच्चा और अनधिकृत है. मेरे लिए ये नमक का कानून तोड़ने जितना ही अवैध है.