May 15, 2020

रोटी एक पहिया हो गयी है


पीछे क्या छूटा
कि जाना कहाँ है।
एक भूला हुआ आदमी
ख़ुद से पूछता है।
* * *
सूखे पत्तों के बीच
सरसराहट की तरह
एक डर दौड़ा आता है
कि रोटी एक पहिया हो गयी है
ढलान में दूर भागी चली जाती है।
* * *
उसकी अंगुलियां रेत पर
गोल-गोल क्या उकेरे जाती थी।
कि आकाश में
एक पूरा चाँद कांपता रहता था।
* * *
दुःख जिन दुःखों को छोड़कर
चले आए थे
आज उन्हीं दुःखों तक लौट रहे हैं।
एक पागल वहीं पड़ा है
बुझी हुई तीलियों को
माचिस की खाली डिबिया में डालता।
* * *
तुमने किसी को देखा है
दुःख उठाकर
अपने पुराने दुःख तक लौटते हुए।
एक आदमी
ये सवाल करता है या उत्तर देता है
नहीं मालूम।
* * *
उसकी उदास आंखों ने कहा
कि लाख करम फूटे मगर।
मगर तुम जिस दुनिया में पैदल चल रहे हो
वह दुनिया तुम्हारे लिए अजनबी न हो जाए।
* * *
मैं चाहता हूँ
कि हमारे प्यार के बारे में
लिखता ही रहूँ।
मगर सड़क पर चलते
ख़ानाबदोश हुए मासूम बच्चों की
याद से सिहर कर चुप हो जाता हूँ।
* * *
इस सबके बीच भी
कभी-कभी मुझे लगता है
कि सब ठीक हो गया है।
मैं तुम्हारे मिलने के वादे के इंतज़ार में खड़ा हूँ
और तुम सचमुच मेरी ओर चले आ रहे हो।
* * *
छायाकार - मानविका।
Image may contain: one or more people and night

 

दो सूखे पत्ते नम मिट्टी में

एक रोज़ कोई कोंपल खिली जैसे नज़र फेरते ही किसी ने बटुआ पार कर लिया हो। एक रोज़ उससे मिला। फिर उससे ऐसे बिछड़ा जैसे खाली बटुए को किसी ने उदासी ...

Hathkadh । हथकढ़

हथकढ़, कच्ची शराब को कहते हैं. कच्ची शराब एक विचार की तरह है. जिसका राज्य तिरस्कार करता है. इसे अपराध की श्रेणी में रखता है. राज्य अपने जड़ होते विचारों के साथ जीने की शर्तें लागू करता है. मेरे पास विचार व्यक्त करने का कोई अनुज्ञापत्र नहीं है. इस ब्लॉग पर जो लिखता हूँ, वह एकदम कच्चा और अनधिकृत है. मेरे लिए ये नमक का कानून तोड़ने या खूबसूरत स्त्री को इरादतन चूमने जितना ही अवैध है.