December 11, 2018

चुनावी टिप्पणी - अशिक्षित असभ्य समाज



देश के कुल बजट में शिक्षा का बजट केवल ढाई प्रतिशत है। वर्ष दो हज़ार अट्ठारह-उन्नीस के लिए शिक्षा को इक्यासी हज़ार करोड़ रुपये मिले हैं। ये ऊंट के मुंह में जीरा भी नहीं है। मैं समझता हूँ कि देश चलाने के लिए भिन्न महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं लेकिन एक सुशिक्षित समाज का निर्माण ही किसी देश का प्राथमिक लक्ष्य होना चाहिए। एक अफसोस ये भी है कि देश की कुल स्कूली शिक्षा में से तीस प्रतिशत निजी शिक्षा ने हथिया लिया है। इनका कुल बजट माने इन निजी शिक्षण संस्थानों द्वारा की जाने वाली लूट भी इतने ही हज़ार करोड़ की हो चुकी है। ये एक विडम्बना है।

शिक्षा को लेकर मेरी चिंता आज अचानक इसलिए फिर से पेशानी पर उभरी है कि आज कुछ राज्यों से चुनाव परिणाम आये हैं। मेरी फेसबुक मित्र सूची के आम और खास लगभग सभी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इनकी प्रतिक्रिया की भाषा अशिक्षित, द्वेषपूर्ण, कुंठित और निम्न स्तरीय व्यक्ति होने का बोध करा रही है। नेताओं से भारतीय समाज कोई अपेक्षा नहीं करता है, ये दुखद है। लेकिन पत्रकार, शिक्षक और विद्यार्थी भी उन्हीं की भाषा के पदचिन्हों पर चल रहे हैं।

अंत में वे जो प्रगतिशील लोग थे वे कब के हार चुके हैं। इसलिए कि उनको सामने वालों ने अपने जैसा बना लिया है। मजाक बनाओ, भद्द पीटो, झूठ की कालिख फैलाओ जैसे कामों में लगा दिया है।

आप अपने घर को बंकर बनाना चाहते हैं या आपकी चाहना है कि आपके बच्चे मजबूत, विद्वान और कर्मयोगी बनें। इसका उत्तर आपको पता है।

मुझे मेरी चाहना पता है इसलिए नई सरकार जो बने उससे मेरी पहली मांग है कि राज्य में शिक्षा का बजट दो गुना करे। और जो नई सरकारें आएं वे इसे चौगुना कर दें। मुझे शालीन, सभ्य, विद्वतापूर्ण एवं मृदुभाषी लोग बहुत पसन्द है।

पसन्द अपनी-अपनी, मांग अपनी-अपनी।
* * *
India’s quality of ECCE lags behind the rest of the world, ranking last among 45 countries in the Economist Intelligence Unit’s 2012 survey of ECCE quality.
Picture of classroom and statement regarding ECCE rank - Courtesy ~ Mint, Nov. 4, 2018


छीजने की आहट

मन एक तमाशा है  जो अपने प्रिय जादूगर का इंतज़ार करता है। शाम से बालकनी में बैठे हुए सुनाई पड़ता है। तुम कितने कोमल हो सकते हो? खुद से पूछने पर...

Hathkadh । हथकढ़

हथकढ़, कच्ची शराब को कहते हैं. कच्ची शराब एक विचार की तरह है. जिसका राज्य तिरस्कार करता है. इसे अपराध की श्रेणी में रखता है. राज्य अपने जड़ होते विचारों के साथ जीने की शर्तें लागू करता है. मेरे पास विचार व्यक्त करने का कोई अनुज्ञापत्र नहीं है. इस ब्लॉग पर जो लिखता हूँ, वह एकदम कच्चा और अनधिकृत है. मेरे लिए ये नमक का कानून तोड़ने जितना ही अवैध है.